ANNOUNCEMENT : Prelims 2019 Select Focus Group (SFG) Commencement Date, Entrance Test and Other Details

UPSC civil services 2018 notification out

1356

Comments

  • rogerthat said:

    agle saal to i think age/attempt reduce nahi honge..march mein election hai..i hope aisa hi ho..

    they dont care about it, they willl definitely make it arnd 28-30 with 450 vacancies
  • honeycomb said:

    rogerthat said:

    agle saal to i think age/attempt reduce nahi honge..march mein election hai..i hope aisa hi ho..

    they dont care about it, they willl definitely make it arnd 28-30 with 450 vacancies
    to phir to ye last attempt hi hoga mera..wo bhi zero prep ke saath..:(
  • rogerthat said:

    honeycomb said:

    rogerthat said:

    agle saal to i think age/attempt reduce nahi honge..march mein election hai..i hope aisa hi ho..

    they dont care about it, they willl definitely make it arnd 28-30 with 450 vacancies
    to phir to ye last attempt hi hoga mera..wo bhi zero prep ke saath..:(
    same here
  • Something needs to be done to express the angst of aspirants..many youths are wasting prime time of their life in cracking this exam.If vacancies decrease,the uncertainty will increase and many deserving talented candidates risk their career even if they work hard with lots of perseverance.
  • guys i am passed out 2015 bba degree can i apply for ifs
  • edited February 7
    seat reduce hogi age nahi dekhlena ( seat might increase in upcoming year)

    Agar hua to mujhe beeche chauraha mein goli mar dena
  • rogerthat said:

    honeycomb said:

    rogerthat said:

    agle saal to i think age/attempt reduce nahi honge..march mein election hai..i hope aisa hi ho..

    they dont care about it, they willl definitely make it arnd 28-30 with 450 vacancies
    to phir to ye last attempt hi hoga mera..wo bhi zero prep ke saath..:(
    Vacancies will reduce next year...post and telegraph,Indian information service will be trimmed next year.
  • Sab log aise he -primetime@ndtv.com pe bhejo taki atleast prime time pe to ye khabar aaye aur logo ko pata chale ki this 'pakoda' govt is against youth

    Twitter pe do. Media ghanta kuch karega. Waha sab scam artists hain
    Pichle 12 din ndtv berojgaar special prime time chalal raha hai...some people are still there to listen.
  • akhil91 said:

    Sab log aise he -primetime@ndtv.com pe bhejo taki atleast prime time pe to ye khabar aaye aur logo ko pata chale ki this 'pakoda' govt is against youth

    Twitter pe do. Media ghanta kuch karega. Waha sab scam artists hain
    Pichle 12 din ndtv berojgaar special prime time chalal raha hai...some people are still there to listen.
    +1
  • seat reduce hogi age nahi dekhlena ( seat might increase in upcoming year)

    Agar hua to mujhe beeche chauraha mein goli mar dena

    Kaahe maze le re ho mitra :p
  • Next jolt will be age attempt reduction from cse 2019.

    Ye na hoga. They will not antagonize Hindi belt waala people. Hum urban waale kuch nahin kar sakte. Hindi waale bamboo kar denge inka if they touch age attempt limit.
  • can anyone tell about doing MS in power engineering from germany. Like job opportunity after that.
    This will be my third attempt , after that i want to get out this thing.
    will appreciate if any one having personal experience/ or relative sheds some light.
  • Bhai MODI ne rula Diya kasam se..
  • gobardhan said:

    can anyone tell about doing MS in power engineering from germany. Like job opportunity after that.
    This will be my third attempt , after that i want to get out this thing.
    will appreciate if any one having personal experience/ or relative sheds some light.

    I did a lot of research on this. I'm telling you what most people I spoke to told me. They told me to rather go to US, because the opportunities due to the presence of a large alumni network, in USA, of a top 10 college in India would be much more. You also wouldn't have to go through the trouble of learning German. So, if you are from a half decent college in India, prefer US over Germany.
  • Ek toh ye attempt ka bhi jhol general k liye..
    Samajh hi nahi aa raha ke de ya skip karen :| :/
    Inspector (Central Excise)
  • edited February 7
    gobardhan said:

    can anyone tell about doing MS in power engineering from germany. Like job opportunity after that.
    This will be my third attempt , after that i want to get out this thing.
    will appreciate if any one having personal experience/ or relative sheds some light.

    He studied Engineering in Germany.
  • Age relaxation of 5 years for J and K aspirants has been removed from this year civil service exam..
  • Lion_King said:

    10000 odd selections in pre!!

    Usse bhi Kam hoga..
    Prelim-2, Mains-1, Interview- 0.
    Prelim cutoff prediction-
    92-96general
    89-92 obc.
  • guys i am passed out 2015 bba degree can i apply for ifs

    @heisenberg pink nopes..for ifos, only engg/science graduates are eligible
  • Mantodas said:

    Lion_King said:

    10000 odd selections in pre!!

    Usse bhi Kam hoga..
    barely ~9360-10140 candidates clearing prelims-2018, compared to 13,366 candidates who cleared prelims-2017. source-mrunal
  • Catman said:

    gobardhan said:

    can anyone tell about doing MS in power engineering from germany. Like job opportunity after that.
    This will be my third attempt , after that i want to get out this thing.
    will appreciate if any one having personal experience/ or relative sheds some light.

    I did a lot of research on this. I'm telling you what most people I spoke to told me. They told me to rather go to US, because the opportunities due to the presence of a large alumni network, in USA, of a top 10 college in India would be much more. You also wouldn't have to go through the trouble of learning German. So, if you are from a half decent college in India, prefer US over Germany.
    @Catman thanks for replying. I wouldn't be able to afford the fee of US college, in that sense germany will be bit cheaper. Also after MS if i return to India will there be decent job opportunities.
    ps: i graduated from GGS indraprastha university, delhi in the yr 2016
  • https://www.facebook.com/RavishKaPage/
    ravish kumar
    यूपीएससी देने वाले दस लाख छात्रों के लिए ख़ुशख़बरी, सीटों की संख्या घटी

    2018 में यू पी एस सी की परीक्षा के लिए सीटों की संख्या छह साल में सबसे कम है। इसका मतलब यह हुआ कि बड़ी संख्या में छात्र तैयारी से फ़ुर्सत पाकर हिन्दू मुस्लिम के लिए उपलब्ध होंगे। इस मायने में सीटों की संख्या में यह ऐतिहासिक कमी ख़ुशख़बरी है।

    2018 की यूपीपीएसी परीक्षा के लिए नोटिफिकेशन आ गया है। 782 सीटों के लिए परीक्षा हो रही है। 2017 की तुलना में 198 सीटें कम हैं। यह पिछले छह साल में सबसे कम है। आई ए एस आई पी एस की संख्या कम हो रही है तो सोचिए बाकी अधिकारियों की संख्या में किस स्तर और रफ़्तार से कटौती हो रही होगी।

    2017 की यूपीएससी परीक्षा के लिए 980 सीटें थीं। 2016 की तुलना में 99 सीटें कम थीं। तब कहा गया था कि पांच साल में सबसे कम सीटें निकली हैं।

    2016 की यूपीपीएससी की परीक्षा के लिए 1079 सीटें रखी गईं थीं।

    2015 में यूपीपीएससी की परीक्षा के लिए 1129 सीटें थीं।

    2014 में यूपीपीएससी की परीक्षा 1299 सीटें थीं ।

    इस बीच नए राज्य बने, नए नए विभाग बने, नई योजनाएं आईं इसके बाद भी शीर्ष अधिकारियों की सीटों में कटौती हो रही है। तब क्यों आई ए एस, आई पी एस अधिकारियों की संख्या कम हो रही है? फिर सोचिए, बाकी स्तर के अधिकारियों की संख्या में किस रफ़्तार में कटौती हो रही होगी।

    कौन ख़ुशख़बरी कहना चाहेगा मगर क्या किया जा सकता है। यह दुखद है। सीटों की लगातार घटती संख्या पर तंज किया है। पूरा देश हिन्दू मुस्लिम टॉपिक पर डिबेट करने में सनका हुआ है। नशे की तरह लोगों को आनंद आ रहा है। इन सब का लाभ उठाकर नौकरियां कम की जा रही हैं। नौकरी में असुरक्षा बढ़ती जा रही है। घटती नौकरी के बीच चैनलों पर हिन्दू मुस्लिम टॉपिक की बहुलता बताती है कि हमारे नौजवानों ने ही जैसे कह दिया हो कि हमें सिर्फ हिन्दू मुस्लिम टॉपिक चाहिए। न नौकरी चाहिए न सैलरी चाहिए।

    नौजवानों, आपके लिए दुख हो रहा है। पर क्या कर सकता हूं। रेलवे के छात्रों के लिए उम्र सीमा 30 से घटाकर 28 कर दी गई। आप अपने अपने इम्तहानों के खेमें में बंटे रहे। तनाम परीक्षाओं में नौजवान अपने अपने टापू पर फंसे हैं। कोई किसी के लिए नहीं बोल रहा है। रेलवे वाले सिर्फ अपने लिए बोल रहे हैं, कंप्यूटर आपरेटर वाले रेलवे के लिए नहीं बोल रहे हैं, दोनों मिलकर शिक्षा मित्रों के लिए नहीं बोल रहे हैं, इनमें से किसी के लिए यूपीएससी वाले नहीं बोल रहे हैं। लेकिन हिन्दू मुस्लिम टॉपिक दे दो, सब मिलकर बोलेगे। अच्छा है कि कुछ छात्रों को बात समझ आ रही है कि इसके बहाने पर्दे के पीछे क्या खेल खेला जा रहा है मगर अब भी यह नशा उतरा नहीं है।


    जब नौजवान धर्म के अफीम में डूबा हो तो तब वह समय नेता बनने का स्वर्ण काल होता है। फर्ज़ी बात ही कहनी होती है, लोग लपक कर गटकने के लिए तैयार बैठे हैं। अब ये फ्राड नेता आपको लेक्चर भी देंगे कि रोज़गार देने वाला बनें। मांगने वाला नहीं। तो फिर खुद मंत्री संत्री बनने के लिए क्यों मारामारी कर रहे हैं, क्यों मंत्री बन रहे हैं, क्यों सांसद बन रहे हैं, क्यों विधायक बन रहे हैं? ख़ुद सरकार में बने रहने के लिए तीन सौ झूठ और प्रपंच रचेंगे और आपको नैतिक शिक्षा देंगे कि सरकारी नौकरी क्यों मांग रहे हो। इसिलए कहा कि ख़ुश रहो कि नौकरियां कम हो रही हैं। सरकार आपको जॉब गिवर बनने का मौक़ा दे रही है।
  • MODI JI JAANE WAALE H ACHHE DIN AANE WAALE H
    IMG-20180207-WA0015.jpg
    1280 x 720 - 122K
  • nilotapl mrinal ( neta CSAT movement)

    आईएएस अधिकारी बनने हेतु परीक्षा वाला नोटिफिकेशन आ गया है।
    दुनिया के सबसे तर्कशील काबिल छात्रों आपको बधाई हो।

    782 सीट आयी है। सीट घटी कि बढ़ी मित्रों?

    उधर संसद के खोली में देश का मालिक बोल रहा है, इधर नियत बोल रही है।

    आओ fb पे हम नौकरी कम हो जाने के तर्क खोज खोज चिपकाएं और सार्थक तार्किक विश्लेषण कर मालिक को दें और उनके भाषण को और धारदार बनाएं।
    आओ बेरोजगारी और घटती नौकरी की सीट को वैश्विक समस्या से जोड़ें, जनसंख्या वृद्धि का सदाबहार नगमा पेश करें। आओ बतायें कि 2014 के पहले देश बाँझ था, सारी मानवी पैदावार इन 3 साल में ही हुई है। जनसंख्या 600 करोड़ हो गयी। ऐसे में रोजगार और नौकरी तो घटेगें ही।
    आओ अपनी सारी बुद्धिमत्ता एक जुमलेबाज़ के जुमलकोष को समृद्ध करने में लगा दें। आओ इंडिया ईयर बुक पढ़ के आंकड़ें जुटा दें, उनके आधार पर घटती नौकरी को सफलतम काण्ड करार दिलवा दें।
    आओ, "कोई काम छोटा नही होता और प्रतिभा किसी अवसर की मोहताज़ नही" जैसे महान पंचतंत्र के नैतिक उपदेश वाले किस्से कहानी कहावत का हवाला दे पकौड़ा बेचने के बयान को राष्ट्रहित का सर्वाधिक मूल्यवान सुझाव करार दे दें। इस बयान को आदमी के स्वाबलंबन का सबसे सार्थक मंत्र सिद्ध कर दें।
    आओ, एक धूर्तयी और अहं के स्थापत्य को और भी मजबूत करने के लिए, उसे और अलंकृत कर नयनाभिराम सौंदर्य देने के लिए ....आओ एक पूरी पीढ़ी की प्रतिभा तर्कों की थेथर कारीगिरी में लगा दो, लग जाओ अपने सारे ज्ञान की कूची ले के इस हुकूमत के हर काले धब्बे को छिपा उस पर पॉलिस कर रंग भरने में। सोने सा चमका दो ये देश जो अंदर से जंग लगा लोहा है।जय हो।
  • Ravish Kumar
    IMG_20180207_180205_178.jpg
    720 x 1280 - 208K
  • Don't vote bjp in 2019...don't let your parents vote bjp....try to persuade your relatives to not vote him
  • gobardhan said:

    Catman said:

    gobardhan said:

    can anyone tell about doing MS in power engineering from germany. Like job opportunity after that.
    This will be my third attempt , after that i want to get out this thing.
    will appreciate if any one having personal experience/ or relative sheds some light.

    I did a lot of research on this. I'm telling you what most people I spoke to told me. They told me to rather go to US, because the opportunities due to the presence of a large alumni network, in USA, of a top 10 college in India would be much more. You also wouldn't have to go through the trouble of learning German. So, if you are from a half decent college in India, prefer US over Germany.
    @Catman thanks for replying. I wouldn't be able to afford the fee of US college, in that sense germany will be bit cheaper. Also after MS if i return to India will there be decent job opportunities.
    ps: i graduated from GGS indraprastha university, delhi in the yr 2016
    I was told in 2016 that job opportunities in India on the basis of a MS degree in Germany won't be very good. If you intend to work in India, Gate would be a much safer option.
  • nilotapl mrinal ( neta CSAT movement)

    आईएएस अधिकारी बनने हेतु परीक्षा वाला नोटिफिकेशन आ गया है।
    दुनिया के सबसे तर्कशील काबिल छात्रों आपको बधाई हो।

    782 सीट आयी है। सीट घटी कि बढ़ी मित्रों?

    उधर संसद के खोली में देश का मालिक बोल रहा है, इधर नियत बोल रही है।

    आओ fb पे हम नौकरी कम हो जाने के तर्क खोज खोज चिपकाएं और सार्थक तार्किक विश्लेषण कर मालिक को दें और उनके भाषण को और धारदार बनाएं।
    आओ बेरोजगारी और घटती नौकरी की सीट को वैश्विक समस्या से जोड़ें, जनसंख्या वृद्धि का सदाबहार नगमा पेश करें। आओ बतायें कि 2014 के पहले देश बाँझ था, सारी मानवी पैदावार इन 3 साल में ही हुई है। जनसंख्या 600 करोड़ हो गयी। ऐसे में रोजगार और नौकरी तो घटेगें ही।
    आओ अपनी सारी बुद्धिमत्ता एक जुमलेबाज़ के जुमलकोष को समृद्ध करने में लगा दें। आओ इंडिया ईयर बुक पढ़ के आंकड़ें जुटा दें, उनके आधार पर घटती नौकरी को सफलतम काण्ड करार दिलवा दें।
    आओ, "कोई काम छोटा नही होता और प्रतिभा किसी अवसर की मोहताज़ नही" जैसे महान पंचतंत्र के नैतिक उपदेश वाले किस्से कहानी कहावत का हवाला दे पकौड़ा बेचने के बयान को राष्ट्रहित का सर्वाधिक मूल्यवान सुझाव करार दे दें। इस बयान को आदमी के स्वाबलंबन का सबसे सार्थक मंत्र सिद्ध कर दें।
    आओ, एक धूर्तयी और अहं के स्थापत्य को और भी मजबूत करने के लिए, उसे और अलंकृत कर नयनाभिराम सौंदर्य देने के लिए ....आओ एक पूरी पीढ़ी की प्रतिभा तर्कों की थेथर कारीगिरी में लगा दो, लग जाओ अपने सारे ज्ञान की कूची ले के इस हुकूमत के हर काले धब्बे को छिपा उस पर पॉलिस कर रंग भरने में। सोने सा चमका दो ये देश जो अंदर से जंग लगा लोहा है।जय हो।

    Bhai inko 2016 me yuva gyan peeth samman bhi mila tha for his book dark horse...
  • Catman said:

    gobardhan said:

    Catman said:

    gobardhan said:

    can anyone tell about doing MS in power engineering from germany. Like job opportunity after that.
    This will be my third attempt , after that i want to get out this thing.
    will appreciate if any one having personal experience/ or relative sheds some light.

    I did a lot of research on this. I'm telling you what most people I spoke to told me. They told me to rather go to US, because the opportunities due to the presence of a large alumni network, in USA, of a top 10 college in India would be much more. You also wouldn't have to go through the trouble of learning German. So, if you are from a half decent college in India, prefer US over Germany.
    @Catman thanks for replying. I wouldn't be able to afford the fee of US college, in that sense germany will be bit cheaper. Also after MS if i return to India will there be decent job opportunities.
    ps: i graduated from GGS indraprastha university, delhi in the yr 2016
    I was told in 2016 that job opportunities in India on the basis of a MS degree in Germany won't be very good. If you intend to work in India, Gate would be a much safer option.
    bhai gate deke fir whi saala PSU ki cutoff clear kro...itni takat nhi bachegi is attempt ke baad...
  • WTF !! I mean seriously ,this govt surely want us to sell 'pakodas'.if you see anywhere in govt every dept is struggling with shortage of staff which ultimately results into inefficiency of govt. Fed up of this 'bhartiya pakoda party'

    pavneet singh of Vajiram told me in 2015 that this is anti-govt employee and this is visible in SSC, UPSC, Bank PO vacancies in the NDA years. You can verify this fact from the data available on net or from the aspirants. Every govt employee knows their cold behaviour towards them in NDA I tenure. Only solution is vote them out. No hindu-Muslim issue, no deshbhakti issue, just vote them out.
Sign In or Join to comment.

Welcome!

We are a secret self-moderated community for Civil Services preparation. Feel free to join, start a discussion, answer a question or just to say Thank you.

Just dont spread the word ;)

Sign in or join with Facebook or Google

Subscribe to ForumIAS Blog